Importance of Yoga

योग का महत्व: शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक समृद्धि

योग भारतीय संस्कृति का एक अमूल्य हिस्सा है जो शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक समृद्धि का समर्पण है। यह साधना हमें एक समता और संतुलन की दिशा में मार्गदर्शन करती है, और यहाँ हम योग के महत्व पर विचार करेंगे।

शारीरिक लाभ:

योग शारीरिक स्वास्थ्य के लिए एक अद्वितीय कारगर तंत्र है। योगासनों के माध्यम से हम अपने शरीर को सुपला, मजबूत, और स्वस्थ बनाए रख सकते हैं। यह हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है, रक्तचालन को सुधारता है, और श्वासमान तंत्र को स्वस्थ बनाए रखने का कार्य करता है। योग से हम शारीरिक कठिनाईयों को दूर करके सुस्तीपूर्ण जीवन की ओर कदम बढ़ा सकते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य:

योग न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी अत्यधिक प्रशिक्षण प्रदान करता है। योग आसनों और ध्यान के माध्यम से आत्मा को शांति और चेतना की अवस्था में लाने में मदद करता है। यह स्ट्रेस और चिंता को कम करने, मानसिक तनाव से मुक्ति प्रदान करने और मानसिक स्थिति को सुधारने में सहायक होता है। योग ने ध्यान की प्रक्रिया के माध्यम से मानव मन को अपने आत्मा के साथ मिलाने की ओर प्रवृत्त किया है, जिससे उदारमनस्कता और आत्मा की अद्वितीयता में वृद्धि होती है।

आध्यात्मिक दृष्टिकोण:

योग आध्यात्मिक उन्नति की प्रक्रिया में मदद करता है और व्यक्ति को अपने आध्यात्मिक स्वरूप का अनुभव करने की दिशा में प्रेरित करता है। यह साधक को अपनी आत्मा के साथ संबंध स्थापित करने की अनुभूति कराता है और उसे जीवन के मूल्यों और उद्देश्यों की समझ में साहायक होता है। समापन में, योग का महत्व शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक स्वास्थ्य की समृद्धि का माध्यम है। इसके प्रैक्टिस से हम अपने जीवन को सुशील बना सकते हैं और अदृश्य लाभों को प्राप्त कर सकते हैं जो अंत में हमें एक संतुलित, खुशहाल और सात्विक जीवन की दिशा में मार्गदर्शन करते हैं।

Unveiling the Hidden Health Benefits of Wing Chun

Introduction:- In the realm of martial arts, Wing Chun stands out as a unique and highly effective form of self-defense. Originating from southern China, this martial art style has gained immense popularity worldwide due to its practicality, efficiency, and emphasis on sensitivity and reflexes. Beyond its combat prowess, Wing Chun offers numerous health benefits that contribute to the overall well-being of its practitioners. In this article, we explore some of the remarkable health advantages of practicing Wing Chun.

  1. Enhanced Physical Fitness: Wing Chun training incorporates a wide range of physical movements, including punches, kicks, strikes, and blocks, which promote cardiovascular endurance, muscular strength, and flexibility. Practitioners engage in dynamic footwork and fast-paced drills, which elevate heart rate and improve overall fitness levels. Regular Wing Chun practice can lead to weight loss, increased stamina, and improved coordination, making it an excellent choice for individuals seeking to improve their physical fitness.
  2. Improved Posture and Body Alignment: Central to the principles of Wing Chun is the cultivation of a balanced and grounded stance. Wing Chun techniques are designed to promote proper body alignment, correct posture, and the alignment of the spine. By strengthening the core muscles and promoting correct posture, Wing Chun practitioners can alleviate back pain, reduce the risk of musculoskeletal injuries, and improve overall body mechanics.
  3. Mental and Emotional Well-being: Wing Chun training not only benefits physical health but also promotes mental and emotional well-being. The practice requires concentration, focus, and discipline, which can help to relieve stress, anxiety, and improve mental clarity. The meditative aspects of Wing Chun training provide an opportunity for practitioners to develop mindfulness, self-awareness, and inner peace.
  4. Enhanced Reflexes and Reaction Speed: Wing Chun emphasizes the development of quick reflexes and lightning-fast reactions. The training involves drills and exercises that enhance hand-eye coordination, reaction time, and reflexes. These skills can be applied not only in martial arts but also in various aspects of daily life, such as driving, sports activities, and reacting to unexpected situations.
  5. Self-defense Skills and Confidence: As a martial art form, Wing Chun equips practitioners with effective self-defense techniques that can be used in real-life situations. The ability to defend oneself not only provides a sense of security but also boosts self-confidence and self-esteem. Wing Chun training empowers individuals by teaching them how to assess threats, react appropriately, and neutralize attacks efficiently.
  6. Cultivation of Discipline and Focus: The rigorous training routines and demanding techniques of Wing Chun require discipline, perseverance, and focus. Regular practice helps individuals develop mental strength, concentration, and discipline, which can extend beyond the training environment into other aspects of life. The cultivation of discipline and focus through Wing Chun can contribute to personal and professional success.

Conclusion: Wing Chun is not only a powerful martial art but also a holistic discipline that promotes physical fitness, mental well-being, and self-defense skills. From improved physical fitness and enhanced reflexes to increased confidence and discipline, the health benefits of Wing Chun are far-reaching. Whether you are seeking to improve your fitness levels, develop self-defense skills, or enhance your mental and emotional well-being, Wing Chun offers a comprehensive approach to overall health and personal growth. Embrace the art of Wing Chun and unlock the hidden potential within you.

Dr. Sonu Kumar Giri.
President, Wing Chun Kung Fu Martial Art Academy, India.

 

The Top 5 Ways Wing Chun Kung Fu Boosts Your Immune System

Are you looking for a way to improve your immune system and stay healthy? Look no further than Wing Chun Kung Fu! Not only is this martial art an effective self-defense technique, but it can also provide numerous benefits for your overall health. In this post, we’ll explore the top 5 ways that practicing Wing Chun can boost your immune system and help you feel better than ever before. So get ready to kick some germs to the curb with Wing Chun Kung Fu!

Introduction to Wing Chun Kung Fu

Wing Chun is a Chinese martial art that has been shown to boost the immune system. A recent study showed that Wing Chun practitioners had a higher level of immunity than those who did not practice the martial art.
The study showed that Wing Chun practitioners had a higher level of white blood cells, which are responsible for fighting off infection. The study also showed that the practitioners had a higher level of antibodies, which help the body fight off viruses and bacteria.
The benefits of Wing Chun Kung Fu for the immune system are due to the fact that the martial art requires a high level of concentration and focus. This allows the practitioner to clear their mind and relax their body, which in turn, helps to boost the immune system.

How Does Wing Chun Kung Fu Boost the Immune System?

Wing Chun Kung Fu is a unique form of martial arts that offers many benefits to practitioners, including a boost to the immune system. The physicality of the sport helps to improve circulation and increase the production of white blood cells, which are key to fighting off infection. In addition, the mental focus required for Wing Chun training can help to reduce stress levels, another important factor in maintaining a strong immune system.

– Strengthens the Body

There are countless benefits to practicing Wing Chun Kung Fu, including strengthening the body and boosting the immune system. Let’s take a closer look at how Wing Chun strengthens the body:

  1. Improved posture and alignment.
  2. Increased strength, power, and endurance.
  3. Greater flexibility and range of motion.
  4. Enhanced coordination and balance.
  5. Faster reflexes and reaction time.
– Improves Mental Clarity

Wing Chun kung fu is a martial art that has many benefits for your health. One of the most important benefits is that it improves mental clarity. When you are mentally clear, you are better able to make decisions and take action.

Mental clarity is important for your overall health and well-being. It allows you to think more clearly and makes it easier to handle stress. If you are constantly worrying about things or feeling overwhelmed, your mental clarity will suffer.

 Wing Chun kung fu helps improve mental clarity by teaching you to focus on the present moment. You learn to let go of distractions and focus on what is happening right now. This allows you to be more in tune with your body and mind, which leads to better decision-making.

In addition, the physical movements of Wing Chun kung fu help to release tension from the body. This can also lead to improved mental clarity as tension can block our ability to think clearly.

So if you are looking for a way to boost your immune system and improve your mental clarity, consider learning Wing Chun kung fu!

– Increases Stamina and Flexibility

Wing Chun Kung Fu is a martial art that has many benefits for your health. One of the most important ways it boosts your immune system is by increasing your stamina and flexibility.

When you are physically fit, your body is better able to fight off infection and disease. Wing Chun Kung Fu helps you become physically fit by increasing your stamina and flexibility. The more flexible you are, the less likely you are to get injured. This means that you will be able to train harder and for longer periods of time without getting injured.

Flexibility also helps improve your range of motion. This allows your muscles and joints to move more freely, which reduces the likelihood of developing strains or other injuries. When your muscles and joints are healthy, they are better able to fight off infection.

Overall, Wing Chun Kung Fu is an excellent way to boost your immune system. The increases in stamina and flexibility will help you stay healthy and injury free, while the improved range of motion will help keep your muscles and joints healthy.

– Reduces Stress Levels

It’s no secret that stress can take a toll on your immune system. When you’re stressed, your body produces cortisol, which can suppress the immune system. Studies have shown that people who practice meditation or other mindfulness-based stress reduction techniques have lower levels of cortisol and are better able to fight off infections.

Wing chun kung fu is a great way to reduce stress levels and improve your overall sense of wellbeing. The slow, deliberate movements help to clear your mind and focus your attention on the present moment. As you become more adept at the form, you’ll find it easier to let go of worries and achieve a state of calmness and inner peace.

– Promotes Healthy Eating Habits

Wing Chun kung fu is more than just a martial art – it’s also a great way to boost your immune system. Here are the top ways that Wing Chun kung fu promotes healthy eating habits:

  • It encourages you to eat more vegetables.

The Wing Chun kung fu diet is based on the traditional Chinese medicine principle of balance. This means that you should aim to consume equal amounts of yin and yang foods. Yin foods are cooling and include fruits, vegetables, tofu, and fish. Yang foods are warming and include meat, eggs, and dairy.

  • It helps you to control your portion size

One of the key principles of Wing Chun kung fu is moderation in all things. This includes food consumption! When you’re practicing moderation with your meals, you’re less likely to overeat or indulge in unhealthy foods.

  • It teaches you to cook simple, nutritious meals.

The Wing Chun kung fu lifestyle emphasizes simplicity – both in your daily routine and in your approach to food. This doesn’t mean that you have to eat boring meals – but it does mean that you should focus on cooking simple, nutritious dishes that will give your body the fuel it needs to train hard and stay healthy.

Conclusion

Wing Chun Kung Fu is a great way to boost your immune system and help you stay healthy. It helps improve mobility, balance, coordination, strength and endurance. Not only does it have physical benefits like these but the mental focus associated with this type of martial art also assists in improving overall wellbeing. So if you’re looking for something that will benefit your body both physically and mentally then Wing Chun Kung Fu could be an excellent choice for you. Give it a try today and see just how much better you feel!

-Sifu Dr. Sonu Kumar Giri

WALKING THE BEST EXERCISE

Now a days people are very health conscious so they are trying the maintain their health. For this they are doing different types of exercise viz. jogging, running, playing sports on the ground, joining a Gym., walking, etc. Read More Walking is one of them, which can perform by anyone, male, female, young, old, children, and handicapped person having a sufficient physical condition to walk. Even pregnant women can also follow this exercise. It does not require any special physical condition, special dress code. People can walk at any time in a day. But walking in the morning before sunrise and after dinner before bed beneficial for maintaining good health.

(A)Walking in the morning before sunrise :-
In the morning before sunrise, there is plenty of oxygen in the air and walking in the morning helps to the intake maximum quantity of oxygen resulted to increase energy. It improves the capacity of the heart. Waking in the morning feel fresh and energetic during the whole day. Some acupressure points stimulates when walking barefoot on the grass resulted keep away many diseases.

(B)Walking after dinner :-
From many years people were walking after taking dinner. Walking after dinner increases fire in the stomach which help to digest the food which resulted throw out waste from our body. When the food digest sufficiently helps to improve to maintain health.

-Wing Chun Academy India-

Be healthy, be happy

तंदरुस्त रहे, खुश रहे

ऐसे लोग कम ही होते हैं जो वजन बढाना चाहते हों। अधिकतर लोग तो वजन कम करने के लिए परेशान रहते हैं पर दोनों ही केस में लोगों के कमेंटस सुनने को मिलते हैं। पतले लोगों को तो कहा जाता है कुछ खाते क्यों नहीं, तुम तो जो भी खाओ माफ है, अरे भई और लो। ज्यादा पतले होने पर उनकी पहचान हैंगर के रूप में या डंडी के रूप में होती है। बडे बुजुर्ग भी कमेंट देते नहीं रूकते।

ऐसे में पतले लोग अधिक सजग हो जाते हैं औेर कई बार तनाव ग्रस्त भी हो जाते हैं। वैसे तो पतला होना अच्छी बात है पर अंडरवेट होना ठीक नहीं क्योंकि इम्यून सिस्टम भी कमजोर हो जाता है।

अगर आप भी अंडरवेट की शिकार हैं तो कुछ बातों पर ध्यान देकर अपना वजन बढा सकते हैं।

कितनी कैलरी लें : – डाइटीशियन के अनुसार वजन घटाने या बढाने के लिए समुचित आहार का मुख्य रोल होता है और इस बात का भी ध्यान रखें कि आपको कितनी कैलरी प्रतिदिन चाहिए। कुल कैलरी का ६५ प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट से, २०से २५ प्रतिशत प्रोटीन से बाकी फैट से मिलना चाहिए।

विशेषज्ञों के अनुसार वजन बढाने हेतु खाना तो दिल खोलकर खा सकते हैं पर जंक या फ्राइड फूड नहीं खाना चाहिए। बेहतर यही होगा कि आप फास्ट फूड के स्थान पर पौष्टिक आहार लें। अपनी कैलरी इनटेक को बढाएं। कार्बोहाइड्रेट हेतु साबुत अनाज, आलू, चावल, ड्राईफ्रूट, सब्जियां, ब्रेड ले सकते हैं इनसे शरीर को ऊर्जा मिलती है। जितनी साधारण कैलरी आपको चाहिए, उन से ५०० से १००० कैलरी अधिक लें।

अपनी खुराक एकदम न बढाएं। धीरे धीरे बढाएं। पेट को धीरे धीरे अधिक खाने की आदत डालें। प्रति किलो ८ ग्राम कार्बोहाइड्रेट ले सकते हैं और प्रोटीन १.६ ग्राम प्रति किलो वजन अनुसार जरूरत होती है। फैट्स लेते समय बैड फैट्स का सेवन न करें जैसे कोकोनेट आयल, पाम आयल और चाकलेट्स का सेवन कम से कम करें। वेजिटेबल आयल का सेवन करें। दिन में तीन मुख्य आहार के साथ थोडा थोडा खाना भी लें। हर खाने के बाद पनीर, बेसन, मावा से बनी एक पीस मिठाई अवश्य लें। हर खाने के साथ मीठा दही भी लें।

सप्लिमेंट फूड का न करें सेवन :- लोगों की सलाह पर या विज्ञापन देखकर वजन बढाने हेतु सप्लिमेंट न लें। इनसे दूरी रखना ही बेहतर है। इससे अच्छा है प्रोटीनयुक्त फूड लें। ताजे फल नियमित खाएं। बाजारी न्यूट्रिशनल ड्रिक्स के स्थान पर फ्रूटस, नट्स शेक लें। सर्दियों में गुड, मूंगफली की चिक्की लें। एक कटोरी दाल, एक कटोरी मीठी दही, सब्जी खाने में अवश्य लें।

नींद करें पूरी :- नींद में हमारा शरीर काम कर रहा होता है। आक्सीजन के दिमाग तक जाने पर ग्रोथ हार्मोंस स्रावित होते हैं और हड्डियों का विकास होता है। अगर हम खाना संतुलित और संपूर्ण ले रहे हैं और नींद कम तो खाने का प्रभाव शरीर पर पूरा नहीं होगा। अगर नींद पूरी लेंगे तो शरीर पर खाने का प्रभाव होगा।

व्यायाम करें :- अक्सर यह माना जाता है कि पतले लोगों को व्यायाम की आवश्यकता नहीं होती। जो हम खाते हैं, अगर उसे सही ढंग से पचांएगे नही तो वजन कमर और पेट के गिर्द चर्बी के रूप में इक्टठा हो जायेगा और शरीर बेढंगा बन जायेगा। व्यायाम भी नियमित करते रहेंगे तो वजन पूरे शरीर पर बढेगा। व्यायाम करने से भूख बढती है। वेट लिफ्टिंग हल्के वजन वाली करें, कुछ दिल से संबंधित व्यायाम करें। व्यायाम शुरू में किसी प्रशिक्षित ट्रेनर की देखभाल में करें।

ध्यान दें कुछ और बातों पर:- 

कैलरी वाले कार्बोहाइड्रेट जैसे कि नट्स लें।

जैम और फ्रूट जूस ले सकते हैं।

अंगूर के स्थान पर किशमिश लें।

केले का सेवन नियमित कर सकते हैं। एक ही तरह के फल के रस के स्थान पर मिक्स फ्रूटस जूस लें।

खाना खाने से पहले सलाद से पेट न भरें।

हाई प्रोटीन डाइट के लिए सोया, पनीर, रेड मीट, चिकन, फिश का सेवन करें।

एक ही बार में ढेर सारा खाना न खाकर दो खानों के बीच में अल्पाहार लें।

श्री सोनू कुमार गिरी

High blood pressure

हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure)

आज जिसे देखो ‘हाई ब्लड प्रेशर की दवा ले रहा है। क्या पुरूष क्या स्त्री, यहां तक कि बच्चों में भी यह रोग पाया जाने लगा है। सब आधुनिक जीवन की देन है। आज पैसा है, ऐशोआराम है, तेज गति है। सुविधाओं का अंत नहीं। आंखें चुंधियाती चकाचौंध हैं, गलाकाट प्रतियोगिताओं की मारामारी और है प्रकृति के नियमों का अविवेकपूर्ण उल्लंघन। ऐसे में सुकून ही एक ऐसी नायाब वस्तु है जिसकी चाह हर एक को है लेकिन जो जीवन से लुप्त हो चला है।

मशहूर हृदयरोग विशेषज्ञ डॉक्टर विमल छाजेर के अनुसार हाई ब्लड प्रेशर का मुख्य कारण स्ट्रैस है। जैसे ही व्यक्ति सुकून से भरा होता है, ब्लड प्रेशर नीचे आ जाता है। कम कार्य हो, समय का दबाव न हो, एक सुखी संतुष्ट पारिवारिक जीवन हो, निन्यानवे का फेर न हो, व्यक्ति अहम् से बौराया न हो और ईश्वर में आस्था हो, यही हाई ब्लड प्रेशर के लिये सबसे अच्छा यानी कि बेस्ट प्रेस्क्रिप्शन है।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण :-

. असमंजस, कनफ्यूजन और थकान

. उल्टी जैसी फीलिंग और पेट की गडबडी।

. दृष्टि में बदलाव या समस्या

. अत्यधिक पसीना आना

. पीलापन या ललाई

. नाक से खून आना

. बेचैनी (नर्वसनेस)

. धडकन का तेज या असामान्य होना

. कानों में घंटी सी बजना

. इम्पोटेंस

. सिरदर्द

. सिर घूमना, चक्कर से आना

डेश डायट :- डेश डायट का मतलब है डायटरी एप्रोचेज टू स्टॉप हाइपरटेंशन। यानी कि हाइ ब्लड प्रेशर को रोकने के लिए अपनी डायट को ठीक रखना। इसमें जो डायट का सुझाव दिया जाता है वह है अनाज, दाल, फल, सब्जी और कम वसा युक्त डेयरी प्रॉडक्ट्स डबल टोन्ड मिल्क या चिकनाई हटाकर दूध से बनी चीजें।

डेश डायट लेने से आपका ब्लड प्रेशर मेंटेन रहेगा और आपका कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लाइसेरिड लेवल मेंटेन रहेगा। आपके शरीर का वजन मेंटेन रखने में ये सहायक होगा।

आपके रक्त में ग्लूकोज लेवल मेंटेन रहेगा। अस्थियों के रोग से बचाव होगा।

डेश डायट में कम वसायुक्त डेयरी प्रॉडक्ट्स जो कि कैल्शियम युक्त होते हैं, शामिल हैं। ये हाई ब्लड प्रेशर को कम करते हैं। विभिन्न स्टडीज से पता चलता है कि भरपूर कैल्शियम लेने से हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद मिलती है।

कुछ अन्य बातें जिनको आपको अपना हाई ब्लड प्रेशर नॉर्मल रखने के लिये ध्यान रखना होगा वे हैं :-

सर्वप्रथम खाने में नमक की मात्रा कम कर दें। दाल या सब्जी में अतिरिक्त नमक कभी न डालें। सलाद में नमक की बिल्कुल जरूरत नहीं होती। पापड अचार, चटनी, प्रोसेस्ड फूड से परहेज करें।

जैसा कि ऊपर लिखा गया है हाई ब्लड प्रेशर में कैल्शियम मुफीद है, इसलिए कम से कम ८०० मिलीग्राम कैल्शियम अवश्य लें। यह तीन कप दूध से प्राप्त हो जाता है।

लहसुन की ३-४ कलियां प्रतिदिन लेने से भी ब्लड पे्रशर ठीक रहता है।

प्रतिदिन २० ग्राम फाइबर लेने से कोलेस्ट्रॉल में भी कमी आती है और बी पी भी घटता है। आहार में फाइबर, चोकर वाले आटे की रोटी, दाल, फल जैसे सेब, आम, केले, आडू इत्यादि तथा ओटमील दलिया कॉर्न से प्राप्त हो सकता है।

अपने आहार में विटामिन सी की मात्रा बढाएं। ये अमरूद, आंवला, हरी मिर्च, टमाटर तथा खट्टे फलों में पाया जाता है। बी.पी कम करने के लिए विटामिन सी की टेबलेट भी ली जा सकती है।

रिसर्च दर्शाते हैं कि पोटेशियम भी बी.पी लो करता है। अमेरिकी डायटीशियन जेम्स वेल्स की मानें तो हाई ब्लड प्रेशर की प्राब्लम वालों को कम से कम २०० मिलीग्राम पोटेशियम रोज लेना चाहिए। एक आलू में ८४४ मिलीग्राम और एक केले में ४५१ मिलीग्राम पोटेशियम है। संतरा और दूध में भी काफी पोटेशियम होता है।

उच्च रक्तचाप (हाई बी पी) चूंकि लाइफस्टाइल से जुडी बीमारी ज्यादा मानी जाती है तो इससे संबंधित कुछ बातों को भी ध्यान में रखा जाए तो अच्छा होगा।

हंसना अच्छे स्वास्थ्य का पासपोर्ट है। ऐसी फिल्में प्रोग्राम्स सीरियल्स देखिए जो आपको हंसी से दोहरा कर दें। तनाव कम होगा तो बी पी भी कम होगा।

क्रोध बी पी का दुश्मन है। चीखने चिल्लाने, टैंपर लूज करने से बी पी एकदम बढता है। बोली में मिठास घोलकर मुलायम स्वर में बोलने की आदत डाल लेंगे तो झगडे भी कम होंगे और क्रोध भी दूर रहेगा।

एरोबिक व्यायाम बी.पी से बचाता है। तनाव दूर करता है। मनोवैज्ञानिक डॉक्टर सिगमैन के अनुसार पूरे दिन में कम से कम आधा घंटा सिर्फ अपने लिए निकालिए। इस समय आप अपना मनपसंद कुछ भी काम कर सकते हैं बशर्ते उससे आपका मनोरंजन हो और आप रिलेक्स फील करें।

रिसर्च बताते हैं कि मोटापा कम करने से बी पी लो होता है। एक स्टडी के मुताबिक हाई ब्लड प्रेशर के ५० प्रतिशत पेशेंट्स को वजन कम करने के बाद दवा लेने की जरूरत ही नहीं रही।

तनाव आधुनिक जीवन का एक हिस्सा बन चुका है अब यह आप पर निर्भर करता है आप इसे कैसे मैनेज करें। लगातार काम न करें। इसी तरह टीवी के आगे घंटों चिपके न बैठे रहें बीच में ब्रेक लेना, थोडा हल्का फुल्का व्यायाम या आंखें मूंद कर रिलेक्स करना अच्छा रहेगा।

आजकल मेडिटेशन की अहमियत भी लोग खूब समझने लगे हैं। यह एक अच्छा साइन है। ध्यान से चित्त शांत होता है। एकाग्रता लाने के लिए मन को साधना जरूरी है और ये ध्यान, मेडिटेशन से संभव हो सकता है।इन बातों का अगर ध्यान रखा जाए तो कोई कारण नहीं कि आपका बी पी १२०/८० ना बना रहे।

-डॉ. पंकज यादव

How to be healthy

अगर आप खाने मेंं फल और सब्जियाँ खाएं तो उससे आपको काफी ऊर्जा (शक्ति) प्राप्त होगी और ऐसे में आपका शरीर भी फिट रहेगा क्योंकि फल और सब्जियाँ बिल्कुल शुद्घ माने जाते हैं और इसमें कोई चिकनाई भी नहीं पाई  जाती।

व्यायाम करने से भी आप अपने शरीर को फिट रख सकते हैं। अगर आप रोजाना एक घंटा व्यायाम करते हैं तो आपका शरीर फिट ही नहीं बल्कि आपका मन भी काफी आनंदित होगा क्योंकि जब आप व्यायाम करते हैं तो जितने भी आप के शरीर के अंदर विषैले तत्व होते हैं वे पसीने द्वारा बाहर निकल जाते हैं।

अगर आप अपने आप को फिट रखना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले यह जानना होगा कि फिटनेस का मूल अर्थ क्या होता है। अगर आप इसका मूल अर्थ जान लेते हैं तभी आप अपने आप को फिट रखने में कामयाब हो सकते हैं। इसके लिए आपको फिटनेस संबंधी पुस्तक, पत्रिकाएं पढनी  चाहिए।

इसके लिए आपको एक सही प्रशिक्षक की आवश्यकता होगी क्योंकि प्रशिक्षक के बिना आप शरीर के आकार को सही नहीं बना पाएंगे और इसके लिए आपको अपने प्रशिक्षक पर निर्भर रहना होगा। वही आपको फिट रहने के सही तरीके बताएंगे।

आखिरी और सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह है कि अगर आप फिट रहते हैं तो सबसे पहले आपको अपने आप पर विश्वास होना चाहिए कि मैं फिट हूँ। आप अच्छे तभी दिखेंगे जब आप दिमागी तौर पर स्वस्थ रहेंगे। इसके लिए आपको इन सारी बातों को ध्यान में रखना होगा तभी आप अपने शरीर को स्वस्थ या फिट रखने में कामयाब हो सकते है।
-Sifu Sonu Kumar Giri

Healthy Apple

स्वास्थ्यवर्द्धक है सेब (Healthy Apple)

शरीर की मानसिक एवं शारीरिक क्षमताओं के विकास में फलों का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। पोषक तत्वों से युक्त फलों में सेब का एक विशिष्ट स्थान है क्योंकि सेब अत्यंत स्वास्थ्यवद्र्घक फल है। इसलिये कहा गया है कि प्रति दिन एक सेब का सेवन करने से डॉक्टर को बुलाने की जरूरत नहीं पडती।

सेब में विटामिन ए, बी, सी, प्रचुर मात्रा में होते हैं। इसमें सैल्यूलोज और कार्बोहाडे्रट भी पर्याप्त मात्रा में होता है। इसमें कुछ धातुयें भी होती हैं। इनके अलावा इसमें भौतिक एसिड एवं फॉस्फेट आदि भी होते हैं। सेब हमारे लिये कितना लाभदायक हैं इसका ब्यौरा देना मुश्किल है क्योंकि वह शरीर को अनन्य शक्ति प्रदान करता हैं। इसके बारे में भाव प्रकाश निघण्टु में लिखा हैं –

सेब समीर पित्त्प्रं बृंहणं कफ कृद गुरू।

रसे पाके च मधुरं शिशिरं रुचिं शुक्रकृत।।

अर्थात् सेब गुणों की खान है। सेब के फल का सेवन वात एवं पित्त का शमन करने वाला, पौष्टिक कफकारक, भारी पाक तथा रस में मधुर, शीतल, रूचिकारक और वीर्यवद्र्घक है।

सेब के हमारे लिये कई उपयोग हैं। इसका उपयोग हृदय, मस्तिष्क, यकृत, और आमाशय को बल देने वाला होता है तथा विटामिन बी आदि पोषक तत्वों से युक्त होने के कारण शरीर को पुष्ट और सुडौल बनाने वाला होता है। प्रतिदिन एक सेब फल छिलका सहित सेवन करने से शरीर हृष्ट पुष्ट, फुर्तीला और शक्तिशाली बना रहता हैं।

गर्भवती महिलाओं बच्चों, रोगियों एवं वृद्घों के लिए यह फल बहुत ही लाभदायक सिद्घ होता है। रोजाना एक सेब खाने से व्यक्ति को कब्ज नहीं होती क्योंकि सेब का रस पाचन क्रिया को तेज करता है। पका मीठा और लाल रस का वाला सेब खाने में मीठा और चबाने में फुसफुसा होता है। सेब को चबाने से जबडे में फंसे भोजन के अवशिष्ट अंश और दूसरे टुकडे निकल जाते हैं।

खाने के बाद एक सेब खाने से दांतों को सुबह शाम साफ करने से दांत स्वस्थ रहते हैं। पथ्य के रूप में सेवन योग्य पदार्थों में सेब फल को उत्तम पथ्य माना गया है। अतिसार, बवासीर, कब्ज, पेचिश, अजीर्ण जैसे उदर विकारों से ग्रस्त, जीर्ण ज्वर, पित्तज्वर, मोतीझरा (टायफॉइड) जैसे ज्वर से ग्रस्त, हृदय विकार, प्लीहा वृद्घि, यकृत वृद्घि, मेदवृद्घि, अश्मरी (पथरी), रक्त विकार, सिर दर्द, शारीरिक और दिमागी कमजोरी, रात या पित्त प्रकोप जन्य विकार तथा श्वास कष्ट जैसी व्याधियों से ग्रस्त रोगियों के लिये सेब उत्तम पथ्य है।

कोई  जीर्ण रोग लम्बे समय से रोगी के शरीर को निर्बल करता रहता है, पाचन क्रिया बिगड जाती है जिससे या बार-बार थोडा सा पतला दस्त होता हैं या कब्ज बना रहता है तो शरीर शिथिल और कमजोर हो जाता है। ऐसी स्थिति में यदि अन्न सेवन न करके सेब का सेवन किया जाये तो थोडे समय में पाचन क्रिया सुधरने से शरीर में जैसे नई जान आ सकती है। चुस्ती, फुर्ती और शक्ति आने लगती है, शरीर पुष्ट और सुडौल होने लगता है और रोगी का चेहरा भी सेब की तरह सुंदर और तेजस्वी हो जाता है। इस तरह सेब एक पौष्टिक सुपाच्य और बलवीर्यवर्द्धक  पथ्य सिद्घ होता है। सेब के कुछ औषधीय घरेलू प्रयोग निम्न हैं –

ज्वर :- ज्वर के समय में सेब का सेवन गुणकारी एवं उत्तम रहता है।

नेत्र पीडा :- जिनको अक्सर सर्दी जुकाम होता रहता हो, सिर में भारीपन और दिमागी कमजोरी का अनुभव होता हो, उनको भोजन के पहले एक सेब खाना चाहिये।

उच्च रक्तचाप :- सुबह शाम एक सेब फल खाने से उच्च रक्तचाप के रोगी को लाभ होता है।

पथरी एवं पेशाब जलन :- प्रतिदिन सेब का सेवन करने से कितनी भी पुरानी पथरी होगी, गलकर मूत्र मार्ग से बाहर निकल जायेगी। पेशाब में जलन को भी यह कम कम करता है।

पेट में कृमि :- रात को सोने से पहले  सेब फल खाते रहने से १०-१५ दिन में पेट के कृमि मल के साथ निकल जाते हैं। इस प्रयोग में सेब खाने के बाद में पानी नहीं पीना चाहिये।

खूनी बवासीर :- खूनी बवासीर हो तो खट्टे सेब का रस निकाल कर मस्सों पर लगाने से खून आना बंद हो जाता है और मस्से धीरे-धीरे टूट गिर जाते हैं।

भूख की कमी :- कच्चे खट्टे सेब का रस निकालकर शक्कर मिलाकर, १-२ कप सुबह ७-८ दिन पीने से भूख खुल कर लगने लगती है।

सूखी खांसी :- सेब फलों का रस निकालकर थोडी मिश्री मिलाकर पीने से सूखी खांसी ठीक होती हैं।

उल्टी :- सेब फल के रस में थोडा सा सेन्धा नमक मिलाकर पिलाने से उलटियां होना बंद हो जाता है।

पतले दस्त :- पतले दस्त लगते हों तो कच्चे सेब फल खूब चबा कर खाने के साथ ही कच्चे सेब फल का रस पीने से पाचन शक्ति बढती है और पाचन होने से दस्त बंध कर आने लगते हैं। इतना ही नहीं, इनके अलावा सेब के कई शर्बत भी बनाये जाते हैं। यह स्वादिष्ट होने के साथ-साथ बहुपौष्टिक और शक्तिवद्र्घक भी होता है। साथ ही रूचिकारी और सुपाच्य भी होता है। सेब का मुरब्बा भी बनाया जाता है। यह अत्यंत ही लाभदायक होता है। भोजन के घंटे भर बाद दोपहर में या प्रात: काल नित्यकर्म से निवृत होकर सेब का मुरब्बा खाने से मस्तिष्क एवं हृदय को बल मिलता है। मुरब्बा खाने से नींद अच्छी आती है। इसके सेवन से कई बुरे व्यसनों से भी छुटकारा मिलता है।

इस प्रकार सेब मानव जीवन के लिये स्वास्थ्यवद्र्घक ही नहीं बल्कि अत्यंत महत्त्वपूर्ण भी होता है।

-श्री सोनू कुमार गिरी / Shri Sonu Kumar Giri

Exercise, Stay Healthy 

व्यायाम करें, स्वस्थ रहें (Exercise, stay healthy)

आधुनिक समय की भाग दौड की जिन्दगी में व्यक्ति इतना तनावग्रस्त हो गया है कि वह कई मानसिक व शारीरिक बीमारियों के बीच घिर गया है। आज हर किसी व्यक्ति का एक लक्ष्य है और वह अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहता है। लक्ष्य की प्राप्ति के लिए व्यक्ति दिन-रात जुटा रहता है। उसे अपने स्वास्थ्य की कतई चिंता नहीं होती। अंत में वह अपने लक्ष्य को तो पा लेता है परन्तु अपने स्वास्थ्य को खो बैठता है। एक नौकरीपेशा व्यक्ति रात देर से आने के कारण सुबह देर से उठने पर जल्दी में कार्यालय जाने के लिए तैयारी करने लगता है तथा शाम को थका-मांदा घर आकर खाना खाकर बिस्तर पकड लेता है। उसे सिर्फ अपने कार्य की परवाह होती है। ठीक ढंग से न खाना, पर्याप्त आराम न करना, हमेशा अंदर-बाहर की चिंता में रहने में स्वास्थ्य खराब होना स्वाभाविक है।

उसे अपने व्यक्तिगत विषय में सोचने के लिए वक्त ही नहीं मिल पाता है। ऐसी स्थिति आज विश्व के हर दूसरे स्त्री-पुरूष की है चाहे वह कामकाजी हो या घरेलू। सभी अपने दैनिक कार्यो में इतने व्यस्त हैं कि उन्हें अपने विषय में सोचने व करने के लिए वक्त ही नहीं है परन्तु आजकल इस स्थिति में कुछ बदलाव आ रहा है।

अगर हम नियमित रूप से व्यायाम करें तो हम इन सभी मानसिक व शारीरिक बीमारियों से बच सकते है। दिन भर स्फूर्ति अनुभव होगी तथा आपके तनाव में भी धीरे-धीरे कमी आयेगी। दिल्ली जैसे महानगर में प्रदूषण के बीच रहने से हमारे फेफडों को स्वच्छ आक्सीजन नहंीं मिल पाती। सुबह-सुबह घूमने से तथा व्यायाम करने से नये दिन की शुरूआत ताजगी, उल्लास व शक्ति के साथ होती है।

व्यायाम व सैर करने वाली महिलाओं की सही उम्र का पता नहीं लगाया जा सकता। इसके द्वारा शरीर में स्फूर्ति व जोश का संचार होता है जो हर किसी की तमन्ना होती है।

तनावग्रस्त युवक-युवतियां अपनी वास्तविक उम्र से कई वर्ष अधिक बडे लगते हैं। आज जिन नायक- नायिकाओं के सुडौल व आकर्षित शरीर को देखकर युवा जगत काफी आकर्षित है वे सभी अपने को आकर्षक बनाने के लिए व्यायाम को ही आधार बनाते हैं तथा संतुलित व पोषक भोजन आदि पर विशेष ध्यान देते हैं। आजकल व्यायाम इतना महत्वपूर्ण हो गया है। डाक्टर भी अनेक बीमारियों के लिए कोई विशेष व्यायाम करने का परामर्श देते है।

अगर आपको भी अपने शरीर को स्वस्थ, सुंदर, सुडौल व आकर्षक बनाना है तो नियमित रूप से व्यायाम करें, जिससे आपको स्फूर्ति का अनुभव होगा। अपने शरीर में बदलाव करने के साथ-साथ उचित भोजन लेना भी आवश्यक है जिसमें हरी सब्जियां, फल, दालें व दूध आदि लाभकारी सिद्घ होते हैं। एक व्यक्ति अगर शुरू से ही व्यायाम करता है तो उसे बुढापे में होने वाली परेशानियों का सामना नहीं करना पडता।

-श्री सोनू कुमार गिरी / Shri Sonu Kumar Giri

Do not afraid of back pain

पीठ दर्द से न घबरायें (Back Pain)

बैक पेन या पीठ दर्द एक ऐसी समस्या बन गई है जिसका सामना आमतौर पर अधिकतर व्यक्तियों को करना पड रहा है। कभी हम कुछ उठाने के लिए झुके नहीं कि दर्द का आभास होता है। कई बार दर्द इतना तेज होता है कि सहन नहीं होता। ऐसे समय में कई बार पेन किलर लेकर गुजारा करना पडता है और कई बार डॉक्टर के पास भागना पडता है। फिर एक्सरे, एम आर आई आदि करवाए जाते हैं ताकि दर्द के कारण को जाना जा सके और कई बार तो सर्जरी तक करवानी पड जाती है।

विशेषज्ञों के अनुसार पीठ दर्द का यह अर्थ नहीं कि कुछ भारी उठाने से आपको स्थायी नुकसान हुआ है। कई बार रोगी को बहुत दर्द महसूस होता है पर कोई विशेष समस्या नहीं होती और कई बार कोई गंंभीर कारण होता है पर बहुत कम दर्द होता है, इसलिए दर्द होने पर एकदम से व्यक्ति को घबराना नहीं चाहिए।

वैसे कोई भारी सामान उठाने पर बहुत कम संभावना होती है कि डिस्क को नुकसान पहुँचा हो, हां, अगर आपको ओस्टियोपोरोसिस होने की संभावना है तो हो सकता है आपकी रीढ की कशेरूका में फ्रेक्चर हुआ हो। अधिकतर पीठ की मांसपेशियों और स्नायुओं में चोट पहुंचती है और जो हमारी निचली पीठ को सहारा देते हंै। यह चोट जरूरी नहीं कि भारी चीज उठाने पर ही आए बल्कि नीचे झुकने पर भी आ सकती है।

ऐसा दर्द कुछ हफ्ते आराम करने पर अपने आप ठीक हो जाता है पर इसका यह अर्थ नहीं कि आप २४ घंटे बिस्तर पर ही पडे रहें क्योंकि इससे ठीक होने में देर होगी और आपकी मांसपेशियां क्रियाशील न रहने के कारण अकड जाती हैं, इसलिए ऐसा नहीं कि सब काम बंद कर दें। हल्के हल्के कार्य जैसे पैदल चलना, घर के कार्य करें पर अधिक व्यायाम, भारी चीजें उठाना आदि बिल्कुल न करें।

अगर ३-४ सप्ताह तक दर्द में आराम नहीं मिलता तो यह जानने के लिए कि दर्द का कोई गंभीर कारण तो नहीं है, आप डॉक्टर की सलाह से एक्स-रे या एम आर आई करवा सकते हंैं। इसके अतिरिक्त अगर आपको बुखार, पसीना आ रहा है या आपको हाल ही में कोई बैक्टीरियल इंफेक्शन हुआ है तो आपको ‘स्पाइनल इंफेक्शन’ हो सकता है। अगर आपको ओस्टिओपोरोसिस होने की संभावना अधिक हो या हाल ही में कोई दुर्घटना हुई हो तो स्पाइनल फ्रेक्चर भी हो सकता है। यह आपका डॉक्टर आपको रिपोर्ट देखने के पश्चात् बता सकता है। यह सब तो गंभीर कारण हुए पीठ दर्द के।

पीठ दर्द में अधिकतर ‘मसाज थेरेपी’, ‘फिजिकल थेरेपी’ व ‘एक्यूप्रेशर’ की सहायता ली जाती है। फिजिकल थेरेपी में फिजिकल थेरेपिस्ट मसाज व व्यायाम, सही पोस्चर आदि के बारे में सलाह देते हैं और एक्यूप्रेशर में शरीर के विभिन्न बिन्दुओं पर प्रेशर दिया जाता है जिससे एनर्जी का बहाव पीठ में होता है। इसके अतिरिक्त बैक बेल्ट, मेग्नेट व अन्य उपकरणों का प्रयोग किया जाता है।

शोधों से यह भी सामने आया है कि स्टे्रचिंग व स्टे्रंथनिंग एक्सरसाइज द्वारा भी पीठ दर्द में आराम मिलता है। पैदल चलना, तैराकी व साइकिलिंग आदि एक्सरसाइज अधिक लाभ पहुंचाते हैं। फिजियोथेरेपिस्ट आपके लिए एक्सरसाइज प्रोग्राम निर्धारित करते हैं पर एक्सरसाइज का नतीजा आने में कुछ समय लगता है इसलिए इसमें धैर्य की जरूरत होती है।

पीठ दर्द की संभावना को कम करने के लिए आप अपनी नियमित दिनचर्या में कुछ बातों पर ध्यान दें।

धूम्रपान न करें :- धूम्रपान आपकी हड्डियों को कमजोर बनाता है, डिस्क को नुकसान पहुंचाता है और रीढ के स्नायुओं को कमजोर बनाता है, इसलिए धूम्रपान का त्याग करें अपनी पीठ के स्वास्थ्य के लिए।

वजन पर नियंत्रण रखें :- वजन बढना कई गंभीर रोगों का कारण है और जब आपका वजन अधिक होता है तो इसका भार आपकी रीढ को सहना पडता है। इससे भी पीठ दर्द जैसी समस्या का सामना करना पड सकता है, इसलिए अगर आपका वजन अधिक है तो उसे नियंत्रण में लाएं।

सही मैटे्रस का चुनाव करें व सही मुद्रा में नींद लें :- आपका बिस्तर बहुत सख्त भी नहीं होना चाहिए और न ही बहुत नरम। इसके अतिरिक्त जब एक तरफ सोएं तो अपने घुटनों के बीच एक तकिया रखें। अपने सिर के नीचे छोटा सा तकिया रखें और अपने घुटनों के नीचे एक बडा तकिया रखें। सदैव सीधा सोने का प्रयास करें। पेट के बल कदापि न लेटें। आपके पलंग की सतह भी बिल्कुल सपाट होनी चाहिए।

  • जब आप अपने हाथों में एक से अधिक सामान उठाए हुए हैं तो दोनों हाथों में समान वजन लें।
  • जब आपने अधिक ऊंचाई से कोई वस्तु उठानी हो तो सदैव सीढी या टेबल का सहारा लें।
  • अगर आपने कोई भारी सामान आगे ले जाना है तो उसे पीछे से धकेलें। कभी भी उसे आगे की ओर से खींच कर उठाने का या खिसकाने का प्रयास न करें।
  • कभी भी कुछ उठाने के लिए एकदम न झुकें। पहले घुटनों के बल बैठ जाएं, फिर कुछ उठाएं।
  • इसके अतिरिक्त सही तरह से खडा होना, बैठना, काम करना आदि बहुत आवश्यक है। आपकी मुद्रा ऐसी होनी चाहिए जिससे आपके मेरूदण्ड पर कम से कम भार पडे। चलते समय कभी झुक कर न चलें क्योंकि चलते समय यह महत्त्वपूर्ण है कि आपके शरीर के किन हिस्सों पर अधिक प्रभाव पडता है।

काफी देर तक बैठे न रहें। अगर आपका काम ऐसा है कि आपको अधिकतर बैठना पडता है तो आप काम के दौरान बीच-बीच में थोडी चहलकदमी करें। कोई भी कार्य ऐसे न करें कि आपके शरीर को झटका लगे। इससे आपकी मांसपेशियों, डिस्क व स्नायुओं को क्षति पहुंचती है।